POLLUTION essay new 2019 latest

What is pollution?

Environmental pollution occurs when pollutants contaminate the surroundings. Pollution disturbs the balance of our ecosystems, affect our normal lifestyles and gives rise to human illnesses and global warming.

IF POLLUTION IS NOT STOPPED IT WILL FINISH WHOLE EARTH.

Pollution has reached its peak due to the development in our lives. With the development of science and technology, there has been a huge growth of human potentials.

 

POLLUTION essay new 2019 latest.

 

 

The most basic indicators of health hazard are air and water pollution, noise pollution. Climate change, bad sanitation and loss of biodiversity. Human health is under threat from natural sources.

IF POLLUTION IS NOT STOPPED IT WILL FINISH WHOLE EARTH.

Deforestation have worsened the situation. India is a party to the UN Conference on Environment and Development held in 1992. Ministry of Environment came out with a notification in 1994 requiring almost all. Development projects to conduct a study for environmental impact assessment.

 

Solutions to pollution problems

Environmental pollution has negatively affected the life of both animals and human-beings.

The only way to control current environmental issues is to implement conservation. Create sustainable development strategies. We should find some effective solutions in order to restore our ecological balance.

 

IF POLLUTION IS NOT STOPPED IT WILL FINISH WHOLE EARTH.

 

 

First of all, we should make sustainable transportation choices. We should take advantage of public transportation, walk or ride bikes whenever possible. Consolidate our trips, and consider purchasing an electric car. It is very important to make sustainable food. Choose local food whenever possible. Buy organically grown vegetables and fruits or grow your own.

 

सामान्य अर्थों में यह हमारे जीवन को प्रभावित करने वाले सभी जैविक और अजैविक तत्वों, तथ्यों, प्रक्रियाओं और घटनाओं से मिलकर बनी इकाई है। यह हमारे चारों ओर व्याप्त है और हमारे जीवन की प्रत्येक घटना इसी पर निर्भर करती और संपादित होती हैं। मनुष्यों द्वारा की जाने वाली समस्त क्रियाएं पर्यावरण को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करती हैं। इस प्रकार किसी जीव और पर्यावरण के बीच का संबंध भी होता है, जो कि अन्योन्याश्रि‍त है।
मानव हस्तक्षेप के आधार पर पर्यावरण को दो भागों में बांटा जा सकता है, जिसमें पहला है प्राकृतिक या नैसर्गिक पर्यावरण और मानव निर्मित पर्यावरण। यह विभाजन प्राकृतिक प्रक्रियाओं और दशाओं में मानव हस्तक्षेप की मात्रा की अधिकता और न्यूनता के अनुसार है।
पर्यावरणीय समस्याएं जैसे प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन इत्यादि मनुष्य को अपनी जीवनशैली के बारे में पुनर्विचार के लिये प्रेरित कर रही हैं और अब पर्यावरण संरक्षण और पर्यावरण प्रबंधन की आवश्यकता महत्वपूर्ण है। आज हमें सबसे ज्यादा जरूरत है पर्यावरण संकट के मुद्दे पर आम जनता और सुधी पाठकों को जागरूक करने की।
संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित यह दिवस पर्यावरण के प्रति वैश्विक स्तर पर राजनैतिक और सामाजिक जागृति लाने के लिए मनाया जाता है। इसकी शुरुआत 1972 में 5 जून से 16 जून तक संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन से हुई। 5 जून 1973 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया।
पर्यावरण के जैविक संघटकों में सूक्ष्म जीवाणु से लेकर कीड़े-मकोड़े, सभी जीव-जंतु और पेड़-पौधों के अलावा उनसे जुड़ी सारी जैव क्रियाएं और प्रक्रियाएं भी शामिल हैं। जबकि पर्यावरण के अजैविक संघटकों में निर्जीव तत्व और उनसे जुड़ी प्रक्रियाएं आती हैं, जैसे: पर्वत, चट्टानें, नदी, हवा और जलवायु के तत्व इत्यादि।

Pollution is the most dangerous problem for all. But nobody care about it. So, Because of this reason everybody will loss everything in future. But I want please care our air I peacefully request you. Please DO SOMETHING.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *