Home > Uncategorized > Basant Panchami puja vidhi 2019

Basant Panchami puja vidhi 2019

बसंत पंचमी

बसंत पंचमी एक बहूत ही अच्छा पर्व है जो बसंत ऋतु में आता है। बसंत पंचमी सिर्फ ज्ञान और विद्या के सम्मान का ही पर्व नहीं है, बल्कि इस दिन प्रेम और आस्था भी साथ साथ पूजे जाते हैं। इसलिए यह एक सम्पूर्ण उत्सव माना जाता है। इसलिए जहां विद्या अर्जन के लिए इच्छुक बालक ज्ञान की देवी सरस्वती की अर्चना करते हैं वहीं प्रेम के देवता कामदेव को भी पूजा जाता है। इसके अलावा इस दिन भगवान विष्णु की पूजा भी की जाती है। यह बहूत ही विशेष पर्व है।

बसंत पंचमी का महत्व

बसंत पंचमी को ऋतुओं का राजा कहा जाता है। इस दिन से कड़कड़ाती ठंड खत्म होने लग जाती है और एक बार फिर मौसम सुहावना होने लग जाता है। हर तरफ हरियाली, पेड़-पौधों पर फूल, नई पत्तियां और कलियां खिलने लग जाती हैं। इस नज़ारे को गुलाबी ठंड और भी खास बना देती हैं। वहीं, हिंदू मान्यताओं के अनुसार बसंत पंचमी के दिन को मां सरस्वती का जन्मदिन माना जाता हैं। इस दिन उनकी विशेष पूजा होती है और पवित्र नदियों में स्नान किया जाता हैं। कामदेव को प्रेम और काम का देवता माना गया है. इन्हें रागवृंत, अनंग, कंदर्प, मनमथ, मनसिजा, मदन, रतिकांत, पुष्पवान और पुष्पधंव नामों से जाना जाता है. कुछ लोग बसंत पंचमी के दिन कामदेव को भी पूजते हैं साल 2019 की बसंत पंचमी और भी खास है, क्योंकि इस दिन प्रयागराज में चल रहे कुंभ में शाही स्नान होगा। बसंत पंचमी के दिन होने वाले इस स्नान में करोड़ों लोग त्रिवेणी संगम में डुबकी लगाने आएंगे। इतना ही नहीं, उत्तर भारत की कई जगहों पर बंसत मेला भी लगता है।

बसंत पंचमी

बसंत पंचमी शुभ पूजा मुहूर्त

बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त (9 फरवरी) – 12:26 से 12:41 तक
बसंत पंचमी शुरू – 12:25, 9 फरवरी 2019
बसंत पंचमी समाप्त – 02:08, 10 फरवरी 2019

संरस्वती मां मंत्र

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता 
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। 
या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता 
सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥१॥

शुक्लां ब्रह्मविचार सार परमामाद्यां जगद्व्यापिनीं 
वीणा-पुस्तक-धारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्‌। 
हस्ते स्फटिकमालिकां विदधतीं पद्मासने संस्थिताम्‌ 
वन्दे तां परमेश्वरीं भगवतीं बुद्धिप्रदां शारदाम्‌॥२॥

यह पूरा मन्त्र जप करने से माता सरस्वती की अपार कृपया मिलती है.

जानें सूर्य ग्रहण की पूरी जानकारी जो जल्द ही आने वाला है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *