Amavasya 2019 dates and timing full information in Hindi

AMAVASYA 2019 DATES  FULL DETAIL CHART 
अमावस्या 2019 में कब-कब
है दिनांक की पूरी जानकारी 

सूर्य ग्रहण जनवरी 2019 की पूरी जानकारी 

चंद्रग्रहण जनवरी 2019 की पूरी जानकारी 

Worship of (Pitra)

Every month, the Amāvāsyā day is considered auspicious for the worship of forefathers and poojas are made. Religious people are not supposed to travel or work, and instead concentrate on the rites of Amavasyas, typically at home in the afternoon. Even today, traditional workers like masons do not work on Amavasya in India. However, they will work on Saturdays and Sundays. Even High Court judges of 18th century India used to observe Amavasya as a day off. It was the British Rule that brought the Christian Sunday-off principle to Indian industry.

हिन्दू कैलेंडर में अमावस्या एक महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन, चंद्रमा आकाश में दिखाई नहीं देता है, यही कारण है कि इसे चंद्रमा दिवस या नया चंद्रमा दिवस भी कहा जाता है। इसे अमावसी भी कहा जाता है, यह हर महीने होता है, इसलिए साल में 12 अमावस्या दिन होते हैं। यह दिन है जो शुक्ल पक्ष की शुरुआत या चंद्र महीने में उज्ज्वल पखवाड़े की शुरुआत करता है।

हिंदू संस्कृति और हिंदू धर्म में, अमावस्या को बहुत महत्त्व दिया जाता है। भारत भर में हिंदू भक्तों द्वारा इस दिन कई महत्वपूर्ण अनुष्ठानों और परंपराओं को देखा जाता है। यह महीने का सबसे अंधेरा दिन है और पुरानी मान्यताओं के अनुसार, इसे वर्ष के सबसे शक्तिशाली और प्रभावशाली समय में से एक माना जाता है।

धार्मिक एवं ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार हर माह के कृष्ण पक्ष में आने वाली अमावस्या तिथि बहुत महत्वपूर्ण होती है। ऐसा माना जाता है कि अमावस्या के दिन प्रेतात्माएं ज्यादा सक्रिय रहती हैं इसीलिए चौदस और अमावस्या के दिन बुरे कार्यों तथा नकारात्मक विचारों से दूरी बनाए रखने में हमारी भलाई है और इन दिनों विशेषकर धार्मिक कार्यों तथा मंत्र जाप, पूजा-पाठ आदि पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। पितृदोष से मुक्ति पाने के लिए इस दिन पितृ तर्पण, स्नान-दान आदि करना बहुत ही पुण्य फलदायी माना जाता है। 

Somavati Amavasya

Somvati Amavasya Vrat (सोमवती अमावस्या व्रत )

An Amavasya falling on Mondays has a special significance. It is believed that a fast on this particular Amavasya would ward off widow-hood in women and ensure bearing of progeny. It is also believed that all desires could be fulfilled if one fasts on this Amavasya.